.
Skip to content

*प्राकृतिक आपदाएँ* हाइकु

Dr.rajni Agrawal

Dr.rajni Agrawal

हाइकु

June 30, 2017

हाइकु मञ्जूषा
अंक – 49
विषय:-
*****
प्राकृतिक आपदाएँ
01. आंधी
02. रेतीली आंधी
03. तूफान
04. बाढ़
05. भूकंप
06. अकाल
07. सुनामी
08. भूस्खलन
09. ज्वालामुखी
10. प्रलय (१)बढ़ी आबादी
प्रकृति की बर्बादी
जीवन हानि।

(२)रेतीली आँधी
तबाही का मंज़र
दबी सभ्यता।

(३)मन की ज्वाला
धधकते अंगारे
सिसकती भू।

(४)पड़ा अकाल
बारिश को तकते
प्यासे नयना।

(५)ईर्ष्या की आँधी
उड़ा ले चली घर
बिखरे रिश्ते।

(६)रुलाई धरा
उगल कर लावा
ज्वालामुखी ने।

(७)भूकंप कोप
कुदरती कहर
दरकी धरा
डॉ. रजनी अग्रवाल “वाग्देवी रत्ना”
संपादिका-साहित्य धरोहर
महमूरगंज, वाराणसी(मो.-9839664017)

Author
Dr.rajni Agrawal
 अध्यापन कार्यरत, आकाशवाणी व दूरदर्शन की अप्रूव्ड स्क्रिप्ट राइटर , निर्देशिका, अभिनेत्री,कवयित्री, संपादिका समाज -सेविका। उपलब्धियाँ- राज्य स्तर पर ओम शिव पुरी द्वारा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार, काव्य- मंच पर "ज्ञान भास्कार" सम्मान, "काव्य -रत्न" सम्मान", "काव्य मार्तंड" सम्मान, "पंच रत्न"... Read more
Recommended Posts
उम्मीद: सात हाइकु
उम्मीद: सात हाइकु // दिनेश एल० “जैहिंद” आशा आशय मनसा प्राकृतिक जग ऐच्छिक । ×××××××× कर्म है आज कामना है कल कोख भविष्य । ×××××××××... Read more
हाइकु वाटिका की समीक्षा
हाइकु वाटिका [साझा हाइकु संग्रह] संपादक - प्रदीप कुमार दाश "दीपक" प्रकाशक :    माण्डवी प्रकाशन, गाजियावाद (उ.प्र.) प्रकाशन वर्ष : फरवरी 2004      मूल्य : 100/----... Read more
हाइकु :-- पेट की आग !!
!! पेट की आग !! हाइकु पेट की आग ! ठण्डा ना कर सका , ये ठण्डा माघ !! तपती भूख ! आज रात का... Read more
चंद हाइकु
चंद हाइकु *अनिल शूर आज़ाद गांधी कहते सच अहिंसा श्रम मानव धर्म। बीता समय कल की हक़ीकत आज सपना। लघु पत्रिका अभाव ही अभाव पत्रिका... Read more