· Reading time: 2 minutes

प्रवचन

सामने प्रवचन चल रहा है कोई प्रसिद्ध महात्मा आत्मा परमात्मा पर अपना मंतव्य दे रहे हैं उनको सुनने देखने के लिए खासी भीड़ है परिवार मित्र मंडली
सब इधर उधर पसरे दिख रहे हैं पर वहां पर भी कुछ अपने पसंद का स्थान चुनने में व्यस्त है कोई बोलता; वो कोना खाली है वहां चले दूसरा बोलता नहीं वहां तो कूलर नहीं पंखा भी नहीं दिख रहा इधर उधर पलटकर देखा झांका मायूस होकर वहीं स्वयं को टिका देते। महिलाएं भी अपनी अपनी बातों में बिजी है पर महात्मा जी अपनी लंबी काली सफेद दाढ़ी पर हाथ फेरते बोलते आत्मा अमर है अजर हैं आत्मा अनिश्चित समय तक जग में रहती है शरीर नश्वर है वास्तव में निर्गुण सगुण कुछ हो सब में ईश्वर है…….कोई बीच में दूसरे से बोलता नया मोबाइल ?कौनसा है बोलते हुए उत्सुक्ता निगाहें मोबाइल पर ही गड़ी है वाह कैमरा तो अच्छा है ये कौन ऑफिस वाली स्वीटी ही है ना …….।महिला ने दूसरी महिला के कपड़ों को देखा और अपनी जेठानी से बोली ये हर जगह यही कपड़े पहनकर आ जाती है चेहरे पर गंभीरता लिए टीलू की शादी और बबलू के जन्मदिन पर भी यही पहने थी पर है अच्छी ड्रैस कलर काॅम्बीनेशन भी अच्छा है ……..महात्मा जी अभी भी प्रवचन देने में व्यस्त हैं किसी खास समूह को ताड़ते हुए आत्मा का कोई निश्चित स्थान नहीं वो तो सब में व्याप्त है बिन आत्मा के शरीर की कोई सार्थकता ही नहीं……..।चलो यार शाम को दारू भी तो पीनी है नहीं दूसरा भाई मैंने तो छोड़ दी संदेह से देखते हुए कब पिछली बार बहुत ज़्यादा हो गयी थी…….महात्मा जी इधर उधर देखते हुए कर्म ही जीवन है और जीवन के कुछ लक्ष्य हैं……..।अर्थात यहां भी सब ओर अपनी अपनी ढपली अपना अपना राग सब कर्मों में व्यस्त है जैसे चल रहे हैं दो एक पल भी कोई स्थिरता नहीं सब दिखावा है हर एक अपने अपने रिक्त समय स्थान को बिताने दिखाने के तरीके हैं दो पल भी किसी के पास समय नहीं महात्मा अपना कर्म कर रहे हैं और संगत अपनी ……कुछ बच्चे यार कब खत्म होगा बोर हो गये अंकल मोबाइल में नैट है …शुशशशशशशशश चुप सामने देख ….

मनोज शर्मा

1 Comment · 50 Views
Like
Author
हिन्दी लेखक व कवि किरोडीमल कालेज दिल्ली दिल्ली विश्वविद्यालय एम ए हिन्दी उर्दू UGC NET UGC SET J&K ,HIMACHAL PRADESH
You may also like:
Loading...