.
Skip to content

प्रयास (कविता)

Onika Setia

Onika Setia

कविता

February 17, 2017

जाने कितनी बार,
प्रयास किया मैनेें।
की मैं अपने जीवन को,
अपनी मुठ्ठी में बांध लूँ।
कभी यह भी सोचा की,
क्यों न इसे गुब्बारे में बांध कर,
कहीं खिड़की या दरवाज़े पर टांक दूँ।
और कभी यह निश्चय किया की,
किसी बोतल में बंद करके ,अलमारी /तिजोर;
में रख दूँ.
किन्तु यह क्या !
मेरे सभी प्रयास विफल हो गए.
मेरा जीवन !
जिसे मैने नगीने की भांति संभाल कर
रखा था अब तक।
समय की ऐसी ठोकर लगी,
और मैं भूमि पर गिर गयी।
कितनी असहाय मैं!
अपने जीवन को अपने वश में ना कर सकें।
और मेरा यह जीवन,
मेरे हाथों से फिसल कर,
टूटकर ,बिखर कर,
बंधन मुक्त होकर,
भूमि में समां गयाें।
और मैं अब ,स्वयं अपनी लाश,
लेकर आई हूँ नदी के तट पर,
अपने तर्पण हेतु।

Author
Onika Setia
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा -- ग़ज़ल, कविता , लेख , शेर ,मुक्तक, लघु-कथा , कहानी इत्यादि . संप्रति- फेसबुक , लिंक्ड-इन , दैनिक जागरण का जागरण -जंक्शन ब्लॉग, स्वयं... Read more
Recommended Posts
मौन की भाषा गढूं या कण्ठ से उद्गार दूँ
उठ रहे जो भाव उर में सुर से मैं आकार दूँ मौन की भाषा गढूं या कण्ठ से उद्गार दूँ जी रहा हूँ जिंदगी मैं... Read more
कविता
#कविता? कभी पुष्प सी कभी शूल सी, जीवन की सच्चाई कविता.! कुछ शब्दों को पंख लगा कर, मैंने एक बनाई कविता.!! जीवन के उन्मुक्त सफ़र... Read more
* दिल की ख्वाहिश *
दिल कहे मैं झूम लूँ , सारी दुनिया घूम लूँ । कोई ख्वाहिश रहे ना बाकि , उड़ के गगन को चूम लूँ ।। दिल... Read more
स्वतंत्रता   की   अभिलाषा  (कविता)
स्वतंत्रता की चाह सोचती हूँ मैं कभी एकांत में, कब स्वतंत्र होयुंगी दुनिया के झमेले सेें। अभी तक तो पराधीन ही हूँ मैं, और हाथ-पांव... Read more