.
Skip to content

प्रभु तुम ध्यान रखना.. .

शालिनी साहू

शालिनी साहू

कविता

May 19, 2017

हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
असत्य के मार्ग से हटे
सत्य पर विजय करें!
हर घड़ी ये उपकार करना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना !
.
साजिशों से बचे
कर्तव्य अपना करें
निज मार्ग तुम प्रशस्त करना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
हर सवेरा रौशन करे
धर्म और ईमान पर चलें
ऐसा ज्ञान तुम मुझमें भर ना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
विपत्तियों से न डरे
धैर्य धारण करे
हर मुश्किल घड़ी तुम साथ रहना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
विश्व-बन्धुत्व रहे
प्रेम सबसे करे
ह्रदय में सबके विद्यमान रहना!
.
हम अबोध हम नादान
प्रभु तुम ध्यान रखना!
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार, रायबरेली(उ0प्र0)

Author
Recommended Posts
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more