Skip to content

प्रद्युम्न हम बहुत शर्मिंदा हैं

Rita Singh

Rita Singh

कविता

September 12, 2017

प्रद्युम्न हम बहुत शर्मिंदा हैं
तेरे कातिल क्यों जिंदा हैं ?
माँ का आँचल कह रहा तड़पकर
क्यों मिला लाल को मौत का फंदा है ?

स्कूल तेरा कैसा ये धंधा
उसमें वहशी घूम रहे
विद्या के पावन मंदिर में
रक्त मासूम का चूस रहे ।

कैसे इस सभ्य समाज मे
अबोध निशाना बन जाते हैं
रम रहे मानव में ही दानव
जो शिकार उन्हें बना जाते हैं ।

कैसे मनुज वो कहला सकते
जो कृत्य दनुज के करते हैं
विद्या के पावन मंदिर में भी
अपराध अक्षम्य वो करते हैं ।

कहाँ शिक्षा पाएँगे बच्चे
आज प्रश्न मानवता पूछ रही
कैसे निश्चिन्त हों मात पिता
जब विद्यालय में पशुता घूम रही ।
डॉ रीता

Author
Rita Singh
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन... Read more
Recommended Posts
?हो जाते?
?हो जाते? हम पावन से अति पावन हो जाते।। जब मनभावन को मनभावन रूप में पाते।। दूर फलक से वो आये है पलक पावड़े हम... Read more
कोई नहीं पाले अनुशासन
कोई नहीं पाले अनुशासन ना मैं, ना तुम, और न हम सब अभिभावक जन | जब से रुपया हुआ है भारी मानवता है बहुत दुखारी... Read more
ग़ज़ल :-- बंदिश ये रंजिश औ नाकाम से डर जाते हैं ॥
गज़ल :-- बंदिश ये रंजिश औ नाकाम से डर जाते हैं ॥ बहर :-- 2212--2212--212--2212 बंदिश ये रंजिश और नाकाम से डर जाते हैं ।... Read more
नटखट बचपन
गौरैयाँ की मधुर चहक सुन, हम रोज सुबह उठ जाते थे l पगडंडी राहों पर चलकर, हम नदी नहाने जाते थे ll चंदा को मामा... Read more