"प्रदर्शन का सुअवसर" #100 शब्दों की कहानी#

सक्षम-अधिकारी की स्वीकृती पर कंपनी में नए इंस्ट्रुमेट को रवि ने स्वयं तैयार किया, सभी को दिया प्रशिक्षण ताकि वे मुख्यालय जाकर सफलतापूर्वक प्रदर्शन करें । इसी बीच रवि के पिताजी का देहांत होने के कारण, प्रदर्शन उसके साथी ने करवाया ।

बहुत इंतजार के पश्चात सुनहरा अवसर आया, वह भी हाथ से निकल गया । रवि उदासीन होकर सोच रहा
“अवसर बार-बार दस्तक नहीं देता” ।

किसी ने बहुत सुन्दर कहा, वे लोग भाग्यशाली होते हैं, जिन्हें सुअवसर प्राप्त होते हैं, यही हुआ रवि के साथ भी । सक्षम-अधिकारी ने कहा,”रवि,कंपनी ने पुनः किया प्रदान प्रदर्शन का सुअवसर” ।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share