प्रकृति

*मुक्तक*
वृक्ष नम्रता -त्याग सिखाता, नदियाँ देना सिखलाती।
द्युति किरणें दुख रूपी तम, को हर लेना सिखलाती।
बूंद बूंद को जोड मेघ सम, बरसाते जल को सबमें।
गतिशील प्रकृति कुदरत की भी , जीवन खेना सिखलाती।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

5 Views
कार्य- अध्ययन (स्नातकोत्तर) पता- रामपुर कलाँ,सबलगढ, जिला- मुरैना(म.प्र.)/ पिनकोड-476229 मो-08827040078
You may also like: