.
Skip to content

* प्यार *

Neelam Ji

Neelam Ji

हाइकु

June 28, 2017

प्यार कहता ?
मैं सच्चा साथी तेरा
तू ये माने ना ?

प्यार कहता ?
मैं रहता तुझमें
तू ये जाने ना ?

प्यार कहता ?
मैं बहता तुझमें
लगा ले गोता ?

प्यार कहता ?
जीवन ये अधूरा
मुझ से पूरा ?

प्यार कहता ?
प्यारा ये जीवन है
हर पल जी ?

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
न जाने क्या क्या कहता दिल
Neelam Sharma गीत Jul 18, 2017
सुन, किया करता है आजकल , खुद से ही अनगिनत वादे, न जाने क्या क्या कहता दिल। कहता है आऊँगा मैं,तपते जलते सहरा में, बनके... Read more
प्रेम-गीत
जी ना सकूँगा तुम बिन मैं यारा, गर तुने मुझको प्यार से पुकारा, मैं तुमसे प्यार करूँगा, ना इंकार करूँगा, हो जाऊँगा मैं तुम्हारा ,... Read more
तुकबन्दी को यार छंद, ग़ज़ल कहता हूँ
बात कड़वी है मगर साफ़ सरल कहता हूँ ! तुकबन्दी को यार छंद, ग़ज़ल कहता हूँ !! जब वो आते है मुस्कुराते हुये घर की... Read more
मैं छोड़ रहा था आँगन जब
मैं छोड़ रहा था आँगन जब मैं छोड़ रहा था आँगन जब अंदर से जागी चिंगारी हूँ मैं कितना क़ायल इनका जो लगती है मुझको... Read more