Reading time: 1 minute

प्यार में जबसे मिली रुस्वाइयाँ

प्यार में जबसे मिली रुस्वाइयाँ
सूख ही दिल की गयी हैं क्यारियाँ

बादलों की आँख से आँसू झरे
देखकर नभ में तड़पती बिजलियाँ

प्यार तो करते बहुत हैं वो हमें
पर समझते ही नहीं मजबूरियाँ

वो बसे हर साँस में हैं इस तरह
भान होती ही न उनसे दूरियाँ

जब हवायें भी बदलने रुख लगीं
कुछ सुलग बैठी दबी चिंगारियाँ

फुसफुसाती रोज आकर कान में
आज भी उनकी लटकती बालियाँ

जो हिफाजत ‘अर्चना’ अपनी करें
वो हुआ करती नहीं पाबंदियाँ

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Comment · 22 Views
Copy link to share
Dr Archana Gupta
995 Posts · 118k Views
Follow 72 Followers
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी तो है लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद... View full profile
You may also like: