May 14, 2021 · कुण्डलिया
Reading time: 1 minute

प्यार के साथी…

कुंडलिया-छंद
◆◆◆◆◆◆◆

प्यार में तप बहूत है, करके रहिये संग।
ज्योति तमस व शोक खुशी,सबमें जीते जंग।
सबमें जीते जंग, जहाँ में रस बरसावे।
अरि अधर का रंग व, उर प्रीत से भर जावे।
कर सच्चा प्यार यार, न देखो जाती पाँती।
ऊँच-नीच छोड़ि के, प्रेम से बनिये साथी।।

**********************************
𝓐𝓼𝓱𝓸𝓴 𝓢𝓱𝓪𝓻𝓶𝓪 ,𝓛𝓪𝔁𝓶𝓲𝓰𝓪𝓷𝓳 14.05.21
**********************************

1 Like · 75 Views
Copy link to share
Ashok Sharma
35 Posts · 2.2k Views
Follow 8 Followers
"सीखाने वाला एक शिक्षक और सीखने वाला एक विद्यार्थी।'' निवास: लाला छपरा, लक्ष्मीगंज, कुशीनगर,U.P. M.A.(Eco),... View full profile
You may also like: