लेख · Reading time: 1 minute

प्यार की परिभाषा

प्यार प्यार प्यार क्या । रट लगा रखी है। प्यार प्यार में कितना दम है। कि केवल लोग नाम से मर जाते हैं नाम से ही करोड़ों कमा लेते हैं। प्यार शब्द की ताकत देखी है। पर प्यार की परिभाषा आज तक कोई नहीं समझ पाया है। बस सारी फिल्म प्यार से शुरू होकर प्यार पर ही खत्म हो जाती हैं । फिल्में बनाने वाले अमीर बन जाते हैं। और देखने वाले गरीब हो जाते हैं। क्या जैसी प्यार की देन है किसी लड़की ने आत्महत्या की तो कहते हैं इसी प्यार के कारण मरी। एक लड़के ने चप्पल खाई तो इसी कारण नाम प्यार है। कोई पागल हो गया तब कहता है इसी का नाम प्यार है। यार प्यार करने वालों तुमने अभी तक शब्द की महिमा नहीं जानी है। तुमसे पूछता हूं दुनिया किससे चलती है। तो आपका जवाब है प्यार से हम कहते हैं दुनिया चलती प्यार से प्यार से दुनिया है तो केवल उधर से। मैं तुम्हें प्यार की परिभाषा पर बात कर रहा था कि प्यार में कितनी ताकत है कि इसमें सारे लोगों को अपने जाल में फंसा रखा है। और उस जाल से बाहर आकर कोई देखना नहीं चाहता है। की प्यार कैसे कब और कैसे होता है प्यार की झूठी काल्पनिक कहानी घर कर लेखक ने लाखों कमाए। और फिल्म बनाने वालों ने कमाया। नाच गाने वालों ने करोड़ों कमाए। फिर कहा यही प्यार था।

1 Like · 1 Comment · 34 Views
Like
264 Posts · 8.8k Views
You may also like:
Loading...