प्यार की कद्र

कैसा प्यार और कैसी प्यार की बातें ,
रह गई अब तो सब किताबें बातें ।

मतलबपरस्ती से बंधा है हर रिश्ता ,
मतलब नहीं तो खत्म प्यार की बातें ।

त्याग ,समर्पण ,वफादारी और सच्चाई,
खत्म हो गई इन सबकी भी कीमतें ।

जिसकी झोली में होगी जितनी दौलत ,
उसी को नसीब होगी ज़माने की मुहोबतें।

रुतबा भी बहुत बड़ी चीज है मेरे दोस्त!,
कौन समझेगा दिल की नाजुक जज्बातें ।

प्यार की अब इस जहां में कद्र ही कहां है ?
दम तोड़ने लगीं है इसकी सभी हसरतें ।

प्यार करना है तो अब खुदा से ही करो “अनु”,
तुम्हारी तड़पती रूह को यहीं मिलेगी राहतें।

6 Likes · 9 Comments · 35 Views
Copy link to share
#14 Trending Author
ओनिका सेतिया 'अनु '
181 Posts · 15.7k Views
Follow 21 Followers
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा... View full profile
You may also like: