प्यारा अपना गाँव (दोहे)

खेत मेढ कच्ची सड़क,पीपल की वो छाँव ! 
खोकर खुद ही खोजता,प्यारा अपना गाँव !!

दिनभर खेले धूप में,….. दौड़े नंगे पाँव ! 
उस बचपन की याद है, प्यारा अपना गाँव !!
रमेश शर्मा.

Like Comment 0
Views 1k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing