.
Skip to content

प्यारा अपना गाँव (दोहे)

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

January 7, 2017

खेत मेढ कच्ची सड़क,पीपल की वो छाँव ! 
खोकर खुद ही खोजता,प्यारा अपना गाँव !!

दिनभर खेले धूप में,….. दौड़े नंगे पाँव ! 
उस बचपन की याद है, प्यारा अपना गाँव !!
रमेश शर्मा.

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
बढे शहर की ओर अब (दोहे )
बढे शहर की ओर अब,पढ़े लिखों के पाँव ! सूना सूना हो गया ,..प्यारा अपना गाँव !! रहा नहीं वो गाँव अब , रहे नहीं... Read more
आ  तो सही  इक  बार मेरे गाँव में
आ तो सही इक बार मेरे गाँव में अद्भुत अतिथि सत्कार मेरे गाँव में हर वक्त रहते हैं खुले सबके लिए सबके दिलों के द्वार... Read more
खपरैल. (दोहे)
मिट्टी के खपरैल घर , संजोये हैं गाँव | वही चर्मराती खाट औ, घने नीम की छाँव || गाँवों में अब घर हुए, कितने आलीशान... Read more
याद मेरे गाँव की
मुझे सोने नहीं देती, खुश होने नहीं देती, याद मेरे गाँव की, याद मेरे गाँव की। जिस आँगन में बचपन बीता वो सूना पड़ा है,... Read more