23.7k Members 50k Posts

प्यारा अपना गाँव (दोहे)

खेत मेढ कच्ची सड़क,पीपल की वो छाँव ! 
खोकर खुद ही खोजता,प्यारा अपना गाँव !!

दिनभर खेले धूप में,….. दौड़े नंगे पाँव ! 
उस बचपन की याद है, प्यारा अपना गाँव !!
रमेश शर्मा.

1116 Views
RAMESH SHARMA
RAMESH SHARMA
मुंबई
498 Posts · 32.5k Views
दोहे की दो पंक्तियाँ, करती प्रखर प्रहार ! फीकी जिसके सामने, तलवारों की धार! !...