Skip to content

पैसों की ताकत के आगे गिरता हुआ जमीर मिला

मदन मोहन सक्सेना

मदन मोहन सक्सेना

गज़ल/गीतिका

September 12, 2017

सपनीली दुनियाँ मेँ यारों सपनें खूब मचलते देखे
रंग बदलती दूनियाँ देखी ,खुद को रंग बदलते देखा

सुबिधाभोगी को तो मैनें एक जगह पर जमते देख़ा
भूखों और गरीबोँ को तो दर दर मैनें चलते देखा

देखा हर मौसम में मैनें अपने बच्चों को कठिनाई में
मैनें टॉमी डॉगी शेरू को, खाते देखा पलते देखा

पैसों की ताकत के आगे गिरता हुआ जमीर मिला
कितना काम जरुरी हो पर उसको मैने टलते देखा

रिश्तें नातें प्यार की बातें ,इनको खूब सिसकते देखा
नए ज़माने के इस पल मेँ अपनों को भी छलते देखा

पैसों की ताकत के आगे गिरता हुआ जमीर मिला

मदन मोहन सक्सेना

Author
मदन मोहन सक्सेना
मदन मोहन सक्सेना पिता का नाम: श्री अम्बिका प्रसाद सक्सेना संपादन :1. भारतीय सांस्कृतिक समाज पत्रिका २. परमाणु पुष्प , प्रकाशित पुस्तक:१. शब्द सम्बाद (साझा काब्य संकलन)२. कबिता अनबरत 3. मेरी प्रचलित गज़लें 4. मेरी इक्याबन गजलें मेरा फेसबुक पेज... Read more
Recommended Posts
सत्य को हारते देखाहै, दर्द को जीतते देखा है, वक्त को बदलते देखाहै, सम्मान का समर्पण देखाहै , रंग बदले गिरगिट देखा है, हाँ!मैने छल-... Read more
रहे मदहोश हम मद में ,न जब तक हार को देखा
रहे मदहोश हम मद में ,न जब तक हार को देखा हमें तब होश आया जब समय की मार को देखा गरीबी से कहीं दम... Read more
~~~कड़वा सच~ ~~
सही कहा है या गलत कह दिया ये फ़ैसला अब खुद आपको करना है !! कि नीम में कभी कीड़े नहीं पड़ते अक्सर मिठाई में... Read more
मजहब के रंग हजार देखे हैं
NIRA Rani कविता Aug 29, 2016
सुना है मजहब के रंग भी हजार होते है कभी कभी हम भी इन्ही से दो चार होते है ....... कान्हा का पीताम्बर कोई जावेद... Read more