.
Skip to content

पैगाम भेजा

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

कविता

December 13, 2016

मोहब्बत पर लाज का पहरा बिठा आँखों से पैगाम भेजा,
हाल ऐ दिल लिख अपना पहला खत तुम्हारे नाम भेजा।

सोच कर मदहोशी मोहब्बत की कहीं कम ना हो जाये,
मोहब्बत की ओस में भिगो गुलाब सुबह ओ शाम भेजा।

भूल कर ज़माने को इश्क नशे में झूमते रहो तुम ताउम्र,
इसीलिए लबों से छू कर मैंने मोहब्बत का ये जाम भेजा।

खुदा से मेरी हर एक साँस पर लिखवाया है नाम तुम्हारा,
छपवा कर इजहार ऐ मोहब्बत का इश्तहार सरेआम भेजा।

सामने आते ही लब खामोश और आँखें झुक जाती हैं,
इसीलिए सुलक्षणा के हाथों मैंने दिल का सलाम भेजा।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
खत
मोहबत में उनको हमने खतों को है भेजा उन्होंने भी हमको कई जवाबों में था भेजा लिख लिख के नये जज्बातों को भेजा कभी खुशियों... Read more
आपके नाम गुलाब भेजा है
सनम आपके नाम गुलाब भेजा है, तनहा शायर ने सलाम भेजा है, कबूल करोगे तो दिल से लगा लेंगे, इंकार करोगे तो दिल में जला... Read more
मैं लिखता हु हर फ़साना मोहब्बत के नाम का .......
मैं लिखता हु,हर फ़साना मोहब्बत के नाम का मैं लिखता हु, हर बात मोहब्बत केे बात का ये दिल पे चोट खाये ही समझेंगे क्यू... Read more
II मोहब्बत II
एक लफ्ज है नाम मोहब्बत , दुनिया का है राज मोहब्बत, बिन इसके ना बाप न बेटा , राखी की है लाज मोहब्बत lI ना... Read more