बचपन और पेड़

???????
पेड़ सा ना कोई हितकारी,
खाते थे फल करते सवारी।
?
माँ की गोद सा हर एक डाली,
सुखमय ममता सी हरियाली।
?
दे दो छुटपन की वो मारामारी,
ना भाती थी बंगला ना गाड़ी।
?
पेड़-सा निस्वार्थ मन की क्यारी,
खिले थे हर चेहरे प्यारी-प्यारी।
?
शुद्ध हवा और अमृत बरसाती,
पेड़-सा दूजा ना कोई उपकारी।
?
इन पर रहते पक्षी ढेर सारी,
इनसे सजते जीवन हमारी।
?
मत काट इसको मार कुल्हाड़ी,
पेड़ हैं हर खुशियों की प्रहरी।
?
लौटा दो वो बचपन हमारी,
एक पेड़ लगाओ हर दुआरी।
????-लक्ष्मी सिंह ?☺

Like Comment 0
Views 215

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share