पेंशन(पुरानी पेंशन) की मांग पर भोजपुरी कविता।

1 -पांच साल या पांच दिन, चाहे चले सरकार ।
बाकी रउरा हो जाइले, पेंशन के हकदार।।
2 -साठ साल जे करे नौकरी, केतनो टहल बजावे ।
अंत समय ना हाथे में, उनके कुछहु आवे ।।
3- कइसन ई सरकार बनेला, कइसन नीति-नियन्ता ।
माननीय के करें सुरक्षा, आम जन के हन्ता ।।
4-60 साल जे करी चाकरी, अंत समय कहाँ जाई ।
हाथ, पाँव ना काम करी त$, केकर टहल बजाई ।।
5- लोकतंत्र में लोक भुलाइल, तंत्र भईल मनमानी ।
जनता के बा होत भलाई, कईसे केहू मानी ?
6- आपन भला करे खातिर,जे रउरा सब के चुनले बा ।
लागता अपने छुरी से अपना अंगुरी के कटले बा ।।7-बानी जेकरा काम से गइल,कुछ त ओकर मान करीं।
सबसे पहिले रउरा सभे(नेता), जनहित के काम करीं।
.💐💐……..जय हिंद….. जय भारत…💐💐

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 1.2k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share