.
Skip to content

पूूछूँगी मैं ?

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

March 4, 2017

“पूछूँगी मैं ?
———-

क्यों पूजते हो फिर ?
नवरात्रा में मुझे !
जब रवानगी देते हो
तुम मेरी ही……
शवयात्रा में मुझे !!
कभी बोरे में !
कभी गटर में !
कभी नाले में !
कभी खड्डे में !
कभी झाड़ी में !
कभी नाड़ी में !
कभी मंदिर में !
कभी मस्जिद में !
जाने कहाँ-कहाँ ?
किस हाल में ?
दर्द से कराहती !!
फेंक देते हो मुझे !!!
इतनी घृणित तो नहीं !
फिर क्यों ??
मेरा ही खात्मा होता है
हर बार !
बार-बार !!
देखूँगी मैं भी…………
कि कितने दिनों तक ?
गला घोंटोगे मेरा !
पूछूँगी उस दिन ?
मैं मानवता के रखवालों से !!
जब होगी कलाई सूनी !
एक भ्राता की !!
पूछूँगी उस दिन ?
जब होगी रूसवाई !
एक माता की !!
पूछूँगी उस दिन ?
जब होगी तन्हाई !
जन्मदाता की !!
थक जाऐंगे ढूढ़ते-ढूढ़ते
बेटे के लिए बहूँ !
तब पूछूँगी मैं !
जब प्रतीक्षा होगी
जामाता की ||
———————————–
डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”
======================

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
कभी कोई कभी कोई
जलाता है बुझाता है कभी कोई कभी कोई। मेरी हस्ती मिटाता है कभी कोई कभी कोई।।1 बुरा चाहा नहीं मैनें जहाँ में तो किसी का... Read more
क्योंकि मैं एक नारी हूँ
कुछ लोग कहते हैं मैं ऐसी हूँ कुछ कहते हैं मैं वैसी हूँ कुछ ये भी बातें करते हैं कि मैं कैसी दिखती हूँ, कैसे... Read more
हुस्न कोई गर न टकराता कभी
तू बता मेरी तरफ देखा कभी और देखा तो बुलाया क्या कभी चाहेगा जब पास अपने पाएगा क्या मुझे है ढूढना पड़ता कभी तू नहीं... Read more
हासिल क्या ?
हासिल क्या ? ---------------- मेरे त्याग और बलिदान से हासिल क्या ? हुआ मुझको !! कभी मिली दुत्कार मुझे ! तो कभी मिला कुआँ मुझको... Read more