Apr 21, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

पूछता है दिल

दिल में बहुत कुछ है उसके
बोलता कुछ भी नहीं मुझसे
लेकिन उसकी निगाहें भी तो
कुछ छुपाती नहीं है मुझसे।।

चाय पर जाने को पूछा जब
वो तब भी ना कह रही थी
देखा मैंने उसकी आंखों में तो
वो जाने को आतुर दिख रही थी।।

इतना तो जानता हूं उसको मैं भी
प्यार करता है मुझे शायद वो भी
अक्सर पूछता है मेरा दिल मुझसे
याद करता होगा मुझे क्या वो भी।।

देखता तो है मुझे दूर से वो भी
छेड़ता तो है मुझे कभी वो भी
बोलूं मिलने को तो गैरों की तरह
क्यों मुंह मोड़ देता है वो भी।।

क्यों दिल की बात नहीं समझता वो भी
अपने आप को गिनता है गैरों में वो भी
हम तो चाहते है उसे तहे दिल से
फिर क्यों नहीं चाहता मुझे वो भी।।

कहने को तो वो मेरा अपना है सुरेंद्र
सामने हो तो नज़रें चुराता है फिर भी
वो कोई चुनाव में खड़ा नेता तो है नहीं
फिर हमे क्यों सपने दिखाता है वो भी

अब तो उम्मीद है मुझे मेरे रब से
करें कोशिश उसे मनाने की वो भी
जो इतना मैं तड़पता हूं उसके लिए
तड़पेगा क्या मेरे लिए कभी वो भी।।

अब तो इंतजार है बस उस दिन का
जब वो कहे प्यार करता है मुझे वो भी
एक बार बस मुझे अब वो मिले जाए
फिक्र नहीं फिर हो जाए मुझे जो भी।।

5 Likes · 77 Views
#1 Trending Author
Surender Sharma
Surender Sharma
122 Posts · 9.2k Views
Follow 48 Followers
You may also like: