पुरुष

पुरुष स्त्री के भांति ही, रखता रूप अनेक।
जनक पिता का रूप भी, उसमें से है एक।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Like 1 Comment 1
Views 53

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share