.
Skip to content

“पुरानी डायरी”

ज़ैद बलियावी

ज़ैद बलियावी

गज़ल/गीतिका

May 19, 2017

एक पुरानी डायरी मे,
मुझको तेरा पता मिला..,
कुछ पुरानी यादे मिली,
कुछ पुराना वफ़ा मिला..,
सब लिखा था डायरी मे,
ज़ुल्फ़ से लेकर पाँव तक..,
तेरी-मेरी दिल लगी से,
दिलपर लगे घाव् तक..,
तेरा मिलना लिखा-
पास आना लिखा,
सब लिखा निखारकर..,
बड़ी नज़ाकत से डायरी लिखा,
तुमको ग़ज़लो मे उतारकर..,
न कोई शिकवा मिला,
न कोई गीला मिला…,
फिर भी एक पन्ने पर,
तेरा छोड़ जाना मिला..,
जिस पुरानी डायरी मे,
मैं खुद को लापता मिला..,
उसी पुरानी डायरी मे,
मुझको तेरा पता मिला..,

(((((ज़ैद बलियावी)))))

Author
ज़ैद बलियावी
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more
इंसानियत इंसान से पैदा होती है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी शोहरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का खुला मुख, मनका भी हूँ... धागा भी... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more