.
Skip to content

पुत्रियाँ

अजय कुमार मिश्र

अजय कुमार मिश्र

कविता

January 21, 2017

पुत्र की चाहत,हो उसी की बादशाहत
हमारे समाज की यही मनोवृत्ति है,
पुत्री के जन्म पर होना झल्लाहट,
नारी के प्रगति में बनी हुयी भित्ति है।
हमने सारे सपने पुत्र के लिए गढ़े,
संसाधन सारे उन्हीं के लिए किए खड़े,
पुत्री की अभिलाषाएँ अंध कूप में पड़े,
ऐसे में नारी कैसे आगे बढ़े।
पुत्र से कहा-“पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब,
खेलोगे और कूदोगे तो होगे ख़राब।”
पर क्या की पुत्री के अध्ययन की भी चिंता ,
क्या उसे कभी दी निर्णय कि स्वतंत्रता।
है विद्या की देवी नारी औ शक्तिस्वरूपा,
पर विद्या से वंचित नारी औ भारस्वरूपा,
पुरुष के हितों में वो ख़ुद को खपातीं,
अपनी सारी पीड़ाएँ मौन पी जातीं।

पर अब पुत्रियाँ करती उद्घोष हैं,
हममें भी पुत्रों के जितना ही जोश है,
दिखाया रीओ में सिंधु और साक्षी,
भारत का मान हमने ही राखी।
खिलाड़ी एक-एक कर होते शिकस्त थे,
पदक के सपने तब होते ही ध्वस्त थे,
सिंधु-साक्षी पदक पाने में व्यस्त थे,
विजय वरण को होते अभ्यस्त थे।
अपदक पीड़ा से था भारत रुआँसा,
सिंधु दिया रजत साक्षी ने काँसा,
जन-जन के उर में स्थान बनाया,
भारत की बेटी का मान बढ़ाया।
मत समझो पुत्री को बला की पैदाईश,
पूरी करेंगी ये सारी ही ख़्वाहिश,
जब-जब ही पुत्र हो जाएँगे नाकाम,
पुत्रियाँ ही बचाएँगीं आपका सम्मान।

Author
अजय कुमार मिश्र
रचना क्षेत्र में मेरा पदार्पण अपनी सृजनात्मक क्षमताओं को निखारने के उद्देश्य से हुआ। लेकिन एक लेखक का जुड़ाव जब तक पाठकों से नहीं होगा , तब तक रचना अर्थवान नहीं हो सकती।यहीं से मेरा रचना क्रम स्वयं से संवाद... Read more
Recommended Posts
नारी
हमें नारी होने का भान कराया जा रहा क्यों कठपुतली की तरह नचाया जा रहा । घर की चारदीवारी से बाँध रखा जमाने ने नारी... Read more
आभार नारी का
नारी है सृष्टा की शक्ति, सृष्टि निर्माण की सहभागी। नारी के हैविविध कलेवर, सारी सृष्टि आभारी। माता बन पोषण करती है, संरक्षण अभिवर्धन करती है।... Read more
हूँ मै नारी/मंदीप
हूँ मै नारी, डरती हुई नारी, पल पल मरती हूँ नारी, बजारू नजरो से बचती हुई नारी। हूँ मै नारी.... बिलकती हुई नारी, खुद को... Read more
ममता,प्यार,करुणा,त्याग की मूर्त ( पन्नाधाय )
ममता,प्यार,करुणा,त्याग की मूर्त                 पन्नाधाय *************************** राणा के पुत्र को जीवन देकर अपने पुत्र का बलिदान किया । पन्नाधाय न अपनेे ममता, प्यार, करुणा का... Read more