दोहे · Reading time: 1 minute

पीड़ा से प्रतिघात

बढे जीत से शत्रुता , पीड़ा से प्रतिघात.।
सोलह आने सत्य है,जाहिर ये जज्बात ।।

छोड़ दिया है वक़्त पर,जब अपनों ने साथ ।
गिरेबान तक आ गए,….. तब बैरी के हाथ ।।
रमेश शर्मा.

2 Likes · 1 Comment · 53 Views
Like
510 Posts · 51.3k Views
You may also like:
Loading...