कविता · Reading time: 1 minute

“पिरामिड”

“पिरामिड”

ले
रंग
तिरंगा
हरियाली
केशर क्यारी
शुभ्र नभ धानी
लहराया बादल॥-1
वो
उड़ा
गगन
प्यारा झंडा
ध्वनि गुंजन
चक्र सुदर्शन
भारत उपवन॥-2
महातम मिश्र ‘गौतम’ गोरखपुरी

1 Like · 31 Views
Like
134 Posts · 8.2k Views
You may also like:
Loading...