.
Skip to content

‘ पितृ भोज’

aparna thapliyal

aparna thapliyal

लघु कथा

April 28, 2017

१९८८ में मैं नई नई, दिल्ली शहर में रहने आईं थी.मन मे राजधानी की बड़ी विराट और चमकीली तस्वीर ,कहीं अन्दर एक अनजाना सा डर भी निहित था ,आखिर मै छोटे शहर में जन्मी ,पली व बढी थी न। खैर हफ्ते भर में मेरी नौकरी लग गई ,कुछ सुकून महसूस हुआ,घर में अकेले में तो ऐसा लगता था जैसे दीवारें मेरी तरफ सरक रही हैं।सुबह मुँह अँधेरे तैयार हो कर स्कूल के लिए निकली,तो पास के एक आलीशान मकान के पिछले वरांडे में नज़र पड़ी,एक कोने में पुराने टूटे फूटे अटरम शटरम का ढेर और दूसरे कोने में ऐसी चारपाई जो झोले सेे भी ज्यादा झोलदार,
रजाई पर घनी छींट के डिजाइन का राज पास से गुजरने पर खुला जब वो मक्खियों का रूप धारण कर उड़ने लगा और इस असाधारण सम्पत्ति की मालकिन एक अत्यंत कृषकाय वृद्धा , पक्के रंग के साथ चेहरा असंख्य झुर्रियों से भरा।
दो पत्थरों के चूल्हे पर कुछ पकाती उस महिला के मुख पर मुझे देखते ही स्निग्ध मुस्कान खेल गई।
हर रोज़ का नियम सा बन गया था मुस्कानों का आदान प्रदान।
एक आध बार मैंने भी खाने को कुछ पकड़ा दिया।
मेरे हिसाब से आलीशान मकान वाले आलीशान दिल के भी मालिक थे ,भई उन्होंने एक असहाय भिखारन को ठिकाना दे रखा था !रविवार की छुट्टी के बाद सोमवार को वहाँसे निकली तो कुछ खाली सा लगा,देखा वरांडे में न खाट थी न रजाई और न ही वो मुस्कान ,थोड़ा अजीब लगा पर भिखारन वो जगह छोड़ कर जा चुकी थी। दो हीी दिन में मुझे भी नार्मल लगने लगा।
चौथे दिन वरांडे के सामने वाले पार्क में लगे भव्य तंबू मे बड़ी बड़ी गाड़ियों में आये संभ्रांत स्त्री पुरुष व बच्चे दादी माँ के लिये आयोजित पितृ भोज में सम्मिलित हो रहे थे….
निज अनुभव पर आधारित लघु कथा
अपर्णा थपलियाल”रानू”
२८.०४.२०१७

Author
Recommended Posts
तेरा शहर ।।
हाथ खाली है तेरे शहर से जाते जाते। जान होती तो मेरी जान लौटाते जाते।। अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है। उमर... Read more
मेरी ग़ज़ल के दो शेर
चेहरे पर मुखौटा , तेरे शहर के लोग लगाए रहते हैं । दिल में कुछ और होता है ,जुबां से कुछ और कहते हैं। नए... Read more
मेरी  लाडली  तेरा  महकना  आरज़ू  मेरी
suresh sangwan गीत Dec 11, 2016
मेरी लाडली तेरा महकना आरज़ू मेरी तू जन्नत की हूर है मेरी आँखों का नूर है मेरी लाडली तेरा महकना आरज़ू मेरी तेरी किल्कारियों ने... Read more
वो आज भी इस बात से बेखबर है
वो आज भी इस बात से बेखबर है मेरी तन्हा राहों के वो हमसफ़र है शहर में जल रही आग की कहाँ फ़िक्र है आब... Read more