.
Skip to content

पितृपक्ष पर विषेश

पं.संजीव शुक्ल

पं.संजीव शुक्ल

कविता

September 14, 2017

*दिखावा*

श्राद्ध पे करते कई दिखावा
मात पिता के मरने पर,
पानी तक को कभी ना पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
कभी रुलाया माँ को उसने
कभी पिता को तड़पाया
दाने – दाने को तरसाया
बृद्धाश्रम तक पहुचाया,
भंडारे करता फिरता वह
खुद को दानी कहने पर,
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
नित्य पिता पे धौंस जमाता
माँ पर हाथ उठाता है
खुद को माने सर्व सामर्थी
उन्हें बेकार बताता है,
अपमानित करे हरदिन उनको
बीवी के बस कहने पर,
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
गर्भ में रखकर जिसने तुझको
अपने रक्त से सीचा है
उंगली पकड़कर जिसका तुमने
पग – पग चलना सीखा है,
आज चिल्लाता है तूं केवल
उस माँ के गीर जाने पर
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
ताप सहा संताप सहा
पिता ने विपत्त निधान सहा,
किन्तु उनको कष्ट हुआ
बच्चों के दूख में रहने पर
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
श्राद्ध करे महादान करे
करता बहुत दिखावा है
कवि देखता सोच रहा है
यह तो मात्र छलावा है,
पानी देता अंजुल भर – भर
पितृपक्ष में तर्पण पर,
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
मात पिता भगवान सरीखे
जीते जी दो उनको मान,
तभी तो तेरे बच्चे तुझको
जीवन भर देंगे सम्मान,
मात पिता से मुख ना मोड़ो
भला -बुरा कुछ कहने पर
पानी तक को कभी न पुछा
जिसने जिन्दा रहने पर।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

Author
पं.संजीव शुक्ल
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
?माता-पिता?
?? *मुक्तक* ?? ?बह्र - 1222 1222 1222 1222? ?????????? अभागे लोग होते हैं पिता-माँ को सताते हैं। कभी भी चैन जीवन में न वे... Read more
नारी
जीवन भर वो जिम्मेदारियां निभाती रही, कभी बेटी तो कभी माँ कहलाती रही, न डरती थी वो न थकती थी वो, एक अग्नि सी जलती... Read more
चंद्रशेखर आजाद।
अमर शहीद महान क्रांतिकारी पं० चंद्रशेखर आजाद जी के जन्मदिवस पर कोटि कोटि नमन करते हुये कुछ पंक्तियाँ। जिसने बल पौरुष साहस को एक नया... Read more
काव्य
एक रचना बच्चे के लिए जिसकी माँ देहव्यापार के दलदल में फँसी है वह जब देखता है कि हर रोज नया आदमी आता है उसकी... Read more