पिता

?पिता का रूप
हैं ईश्वर स्वरूप
हैं चारों धाम ?

?पिता की सेवा
सबसे बड़ी पूजा
मिलता मेवा ?

?पिता पालन
प्रेम का प्रशासन
अनुशासन ?

?पिता निर्माण
घर का अभिमान
देते हैं ज्ञान ?

?पिता संसार
खिलौने का बाजार
स्नेह आपार ?

?पिता अपने
सतरंगी सपने
उम्मीद बोते ?

?पिता आकाश
जीवन का प्रकाश
सबसे खास ?

?पिता देवता
नित शीश झुकाना
आशीष पाना ?—लक्ष्मी सिंह ??

Like Comment 0
Views 128

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing