कविता · Reading time: 1 minute

“पिता”

सदोका रचनायें

“पिता”
(१)
वट का वृक्ष
पिता की छत्रछाया
पालनकर्ता
नारियल समान
नर्म-कठोर ह्रदय

(२)
स्नेहिल माता
हरदिल अजीज
पिता की छवि
मुख पे कठोरता
ह्रदय कोमलता

(३)
सहते पिता
हर मुश्किल स्वयं
मुस्कान सदा
सजे सौम्य मुख पे
चाहे सबकी ख़ुशी

(४)
राह दिखाए
कान्धा बचपन में
नायक बन
हौंसला संघर्षों में
पिता की पहचान

“सन्दीप कुमार”

90 Views
Like
You may also like:
Loading...