.
Skip to content

“पिता”

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

कविता

August 3, 2016

सदोका रचनायें

“पिता”
(१)
वट का वृक्ष
पिता की छत्रछाया
पालनकर्ता
नारियल समान
नर्म-कठोर ह्रदय

(२)
स्नेहिल माता
हरदिल अजीज
पिता की छवि
मुख पे कठोरता
ह्रदय कोमलता

(३)
सहते पिता
हर मुश्किल स्वयं
मुस्कान सदा
सजे सौम्य मुख पे
चाहे सबकी ख़ुशी

(४)
राह दिखाए
कान्धा बचपन में
नायक बन
हौंसला संघर्षों में
पिता की पहचान

“सन्दीप कुमार”

Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती... Read more
Recommended Posts
पिता
पिता जीवन की शक्ति है,जन्म की प्रथम अभिव्यक्ति है, पिता है नींव की मिट्टी,जो थामे घर को रखती है पिता ही द्वार पिता प्रहरी ,सजग... Read more
पिता
?पिता का साया वट वृक्ष की छाया सदा शांति सा ? ?पिता का साथ आशीष भरा हाथ रहें हमेशा ? ?पिता का कंधा मजबूत सुरक्षा... Read more
पिता
?पिता ताकत धौंस भरी आहट घर की छत ? ?पिता सहारा सपनों को साकारा दिया किनारा ? ?पिता गंभीर अंदर से वे धीर ऐसी तासीर... Read more
पिता
?पिता का रूप हैं ईश्वर स्वरूप हैं चारों धाम ? ?पिता की सेवा सबसे बड़ी पूजा मिलता मेवा ? ?पिता पालन प्रेम का प्रशासन अनुशासन... Read more