.
Skip to content

पिता आपकी याद में…

सतीश तिवारी 'सरस'

सतीश तिवारी 'सरस'

कुण्डलिया

June 26, 2017

पिता पर केन्द्रित तीन कुण्डलिया छंद
(1)
पिता आपकी याद में,गुज़रें दिन अरु रात।
किन्तु आपके बिनु मुझे,कुछ भी नहीं सुहात।।
कुछ भी नहीं सुहात,भोज का स्वाद न भाये।
सब स्वारथ के मीत,करूँ क्या समझ न आये।।
कह सतीश कविराय,टेक बस ईश-जाप की।
याद सताये खूब,निरंतर पिता आपकी।।
०००
(2)
मुझे याद है आज भी,पिता आपकी सीख।
भूखे रह लेना मगर,नहीं माँगना भीख।।
नहीं माँगना भीख,मान नित देना श्रम को।
करते रहना कर्म,भूलकर हर इक ग़म को।।
कह सतीश कविराय,बात यह निर्विवाद है।
पिता आपकी सीख,आज भी मुझे याद है।।
०००
(3)
भाई अपने में रमे,भूले रिश्तेदार।
किन्तु पितृ-आशीष से,सँग में है करतार।।
सँग में है करतार,प्यार माँ का है हासिल।
उर में है विश्वास,मिलेगी इक दिन मंज़िल।।
कह सतीश कविराय,बजेगी जब शहनाई।
प्रमुदित होंगे मीत,प्रफुल्लित होंगे भाई।।
सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर (म.प्र.)

Author
Recommended Posts
जन्नत
माता पिता के रूप में ही मुझे मेरा खुदा नज़र आया है माता पिता के चरणों में ही मैंने जन्नत को पाया है | माता... Read more
....फिर चले आओ पिता.........
रात फिर काली है आज भय भगा जाओ पिता छाती पर अपनी लिटाकर फिर सुला जाओ पिता देख लो मै इन अँधेरों से अकेला लड़... Read more
मुक्तक
तेरी मुलाकात मुझे याद आ रही है! भीगी हुई रात मुझे याद आ रही है! खोया हुआ हूँ फिर से यादों में तेरी, शबनमी बरसात... Read more
मुक्तक
मुझे गुजरा हुआ ज़माना याद आता है! मुझे गुजरा हुआ अफसाना याद आता है! वो ख्वाहिशों की रूह से लिपटी हुयी रातें, मुझे तेरा क़रीब... Read more