.
Skip to content

“पिताश्री”

Shri Bhagwan Bawwa

Shri Bhagwan Bawwa

मुक्तक

October 21, 2016

गर्दन उठा कर , शान से जीना सिखा दिया !
करता हूं नमन भगवान्; मुझे ऐसा पिता दिया!
नारी का सम्मान,गरीबों-खातिर लड़ने का गुण,
अपने खून के इक कतरे, सब कुछ मिला दिया !
(पिताश्री को समर्पित)

Author
Recommended Posts
******भाव कलम के******
छटा प्रातः की देख कर मन भाव ऐसे उठ गये। इंद्रधनुष रंगों ने मानो, नभ में रंग भर गये।। रंग सिंदूरी सजा है यों, धरा... Read more
एक श्वान की व्यथा
मोती यानी "मैं" और जैकी नरकीय 'पिताजी'! (क्योंकि हमारे कर्म ऐसे हैं कि स्वर्ग मिलने से रहा?) दोनों कुछ बरस पहले दुम हिलाते हुए गांव... Read more
तेवरीकार रमेशराज किसी परिचय के मोहताज नहीं
तेवरीकार रमेशराज किसी परिचय के मोहताज नहीं +डॉ. भगत सिंह ------------------------------------------------------------ तेवरीकार रमेशराज का नाम हम सबके मध्य किसी परिचय का मुहताज नहीं है |... Read more
मिशन इज ओवर
अनायास विकास एक दिन अपने गाँव लौट आया. अपने सामने अपने बेटे को देखकर भानु प्रताप चौधरी के मुँह से हठात निकल गया -"अचानक ........ Read more