.
Skip to content

पिताजी को समर्पित

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

कविता

October 2, 2016

“पापा को समर्पित”

थाम के नन्हे नन्हे हाथों को मेरे

चलना मुझे सिखाया

बैठा कर अपने मजबूत कन्धों पर

ये संसार मुझे दिखाया

लड़खड़ाकर जब भी मैं गिरा

सहारा देकर मुझे उठाया

बहकने लगे जब मेरे कदम

जीने का सही रास्ता दिखाया

थकेमादे लौटे थे ऑफिस से

मेरी घूमने की जिद मानी आपने

जितना मैंने कहा मुझे घुमाया

चलते चलते थक गया मैं

धूल मिटटी से सने थे पाँव मेरे

इस सबसे बेपरवाह होकर

आपने मुझे अपनी गोद में उठाया

सुबह के भूखे थे पापा आप

पहला निवाला मुझे खिलाया

माँ की ममता माँ का प्यार

माँ का अपनापन माँ का दुलार

सबने देखा सबने सराहा

आपका सख्त चेहरा

आपका अत्यधिक क्रोध

बस यही दिखाई दिया सबको

उस सख्ती के पीछे छुपा नर्म दिल

किसी को नजर नहीं आया

छद्म आवरण थी सख्ती वो

ज़रूरी थी मार्गदर्शन के लिए

आपने ही तो जीवन पथ पर

आगे बढ़ना सिखाया

बहुत खुश होता हूँ

जब बात करते हो आप मुझसे

गर्व से फूल जाता है हृदय मेरा

जब आप सलाह लेते हो मुझसे

कभी कभी टोक देता हूँ मैं

आपकी कुछ बुरी आदतों को

पर वो आपकी वाली सख्ती

आ नहीं पाती मुझमे

आज मैं भी वहीँ खड़ा हूँ

जहाँ कभी आप खड़े रहे होगे

एक असीम अनुभूति सुखद एहसास

पितृत्व सुख पाने को आतुर

दिल में कई अरमान लिए

बस एक ही ख्वाहिश लिए अब

आप जैसा पिता बन पाऊं |

“सन्दीप कुमार”

२१/०६/२०१५

पितृ दिवस पर लिखी गयी मेरी रचना

Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती... Read more
Recommended Posts
मुझे इतिहास लिखना है
चलते-चलते तेरे और मेरे हुनर में फर्क बहुत है ऐ मेरे दोस्त, तुझे इतिहास पढ़ना है और मुझे इतिहास लिखना है। कवि अभिषेक पाण्डेय
मेरे श्याम
हाथ माखन होंठ मुरली . . से सजाया आपने .. नंद नंदन श्याम जग को . . है रिझाया आपने॥ ऐ मदन गोपाल सुनिए... मैं... Read more
मैं चाहता हूँ...(विवेक बिजनोरी)
"मेरे ख़्वाब में फ़िर यूँ आने से पहले, मुझे इस तरहा फ़िर सताने से पहले। मैं चाहता हूँ तुम भी मेरे साथ जागो यूँ रातों... Read more
पुरस्कार
कविता पुरस्कार - बीजेन्द्र जैमिनी जब से मुझे मिला है पुरस्कार कोई मेरे पाँव छूँता है कोई मुझे आर्शीवाद देता है देखते ही देखते मैं... Read more