.
Skip to content

पास जीवन के इम्तहान में क्या

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गज़ल/गीतिका

June 28, 2016

पास जीवन के इम्तहान में क्या
सोचना उम्र की ढलान में क्या

पंख डर के लगा यहाँ अपने
उड़ सकेगा तू आसमान में क्या

घूरती क्यों निगाहें हैं मुझको
झूठ है कुछ मेरे बयान में क्या

जख्म दिल के कुरेदता हरदम
तीर अब भी बचे कमान में क्या

झूठ के शब्द लड़खड़ा जाते
सच कभी छिप सका जबान में क्या

जीत मिलती अगर फरेब से तो
अर्चना सर ये उठता शान में क्या

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
हम क्या एहसान कोई करते हैं ?
झूठ में शान कोई करते हैं हम क्या एहसान कोई करते हैं उस के दर कुछ भी दिया, तो माँगा सिर्फ़ न कि दान कोई... Read more
तुम साथ हो तो वक्त भी क्या खास होता है
तुम साथ हो तो वक्त भी क्या खास होता है वरना कदम भी मील का अहसास होता है यादें सताती इस कदर तुमको बतायें क्या... Read more
कैकयी
मैं कैकयी हूँ मेरा मेरा दर्द तुम क्या जानो एक स्त्री की पीड़ा को भला तुम क्या जानो जिसे ह्रदय में पथ्थर रखकर भेजा था... Read more
!! मुलाकात !!
कहाँ मिले थे, क्या याद है न तुमको वो समां था कुछ हसीं सा जब मिले थे हम दोनों इक निगाह से छुप छुप कर... Read more