पावस बहुत रुलाती हो

पावस बहुत रुलाती हो
तरसा तरसा कर आती हो

पीली चमड़ी वाली गर्मी
हो जाती जब बहुत अधर्मी
उमस से भीगा है आँचल
थमी हवा मन करे विकल

पावस हडकाओ सूरज को
रोके मद जो आग उगलता
कहे मेघदूतों से जाकर
करो शीघ्र गर्मी को चलता

इधर उधर बदल पागल से
बिना वस्त्र घूमें घायल से
रुण्ड-मुंड वृक्ष लतिकाएँ
खड़े निरीह से मुख लटकाए

खरी जल के बैरी बादल
बरसाओ ठंडा मीठा जल
तेरा आना टलता जितना
सूखे का भय पलता उतना

पावस बहुत रुलाती हो
तरसा तरसा कर आती हो

Like Comment 0
Views 15

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share