.
Skip to content

पावस की महिमा

Manjusha Srivastava

Manjusha Srivastava

कविता

June 13, 2017

तपन भरे इस जग को आकर घेरा जब काले मेघों ने |
पावस का स्वागत करने को उल्लास अनोखा फूट पड़ा |

चमकी दामिनि की एक लहर एक ज्योति पुंज सा फैल गया |
अपनी बहुरंगी आभा से वर्षा ऋतु ने श्रंगार किया |

पावस की पहली बारिश जल भर के ज्यों – ज्यों बरसी |
वह पहली बौछार धरा ने सारी की सारी सोखी |

सौंधी सौंधी गंध मटीली धरा रोम से फूट पड़ी |
मादक सी एक गंध उठी जो पुरवाई से फैल गयी |

वर्षा ऋतु का आकर्षण मन को आकर्शित करता है |
बारिश में जी भर भीगूँ मैं मन में भाव उमड़ता है |

टप – टप माथे पर बूँद पड़ी मेघों ने नम कर दिया मुझे |
मेरा भी तन -मन पुलकित हो वन मोरों सा झूमे नाचे |

हरियाली से पूर्ण धरा नव वधू सरीखी सज जाती |
हर्शित होता मेरा भी मन मैं भी दुल्हन सी सज जाती |

ताल तलइया भर जाते नाले भी सब नदियाँ लगते |
कागज की कश्तियाँ लिये नन्हें मुन्ने मिल तैराते |

सुखद सलोना सा बचपन वर्षा तुम याद दिलाती जब |
मैं बचपन में खो जाती कागज की नाव बनाती तब |

पल पल रूप बदलती धरती पावस की महिमा ऐसी |
बादल की कजरीली छइयाँ कहीं सुनहरी
धूप खिली |
©® मंजूषा श्रीवास्तव

Author
Recommended Posts
विश्व में माँ भारती अप्रतिम धरा
फूल टेसू के खिले हैं हो रही अरुणिम धरा सज रहे हैं रंग होली के, हुई मधुरिम धरा भस्म कर दो होलिका में,आज सारी नफरतें... Read more
--
२२--२२--२२--२२ आर बना नफ़रत को तू अब प्यार बना स्वर्ग धरा को ही यार बना बीच हमारे दुनिया सारी कासिद यारो को यार बना सुंदर... Read more
पहली पहली बार
यादों में वो लम्हे बसे हों पहली पहली बार राहों में हम तुम मिलें हों पहली पहली बार पिघल के मेरी बाहों में समाये तुम... Read more
??विश्व धरा के जन जन को दीपोत्सव मंगलमय हो ??
धवल प्रकाश विखेरे दीपक धरनी पर, अलंकार ज्यों शोभित होते तरुणी पर, नव तरुणी सी शोभा लेकर अपनी पावन संस्कृति हो, विश्व धरा के जन... Read more