May 29, 2018 · दोहे
Reading time: 1 minute

पाप पुन्य के गणित को,

पाप पुण्य के गणित को, समझ सका है कौन,
मन चाही है व्यवस्था, शास्त्र हुये हैं मौन l

पंथों ने बाँटा हमें, द्वैत और अद्वैत,
ईश्वर सत्ता ऐक है, प्राणी अब तू चेत l

1 Like · 47 Views
Copy link to share
Dr. Harimohan Gupt
229 Posts · 4.9k Views
Follow 5 Followers
डॉ. हरिमोहन गुप्त को मैंने निकट से देखा है l 81 वर्ष की आयु में... View full profile
You may also like: