"पाप-पुण्य "

पाप-पुण्य का लेखा-जोखा
प्राणी तेरा लिखा जाएगा।
कर्म भले या बुरे जो करेगा
दंड अवश्य ही तू पाएगा।

यही है वह कथन जो हम
आदिकाल से सुनते आए।
किन्तु जो विश्वास न करते
पाप कुंभ को भरते जाएं।

वही डरेगा पाप न करेगा
भले-बुरे का भेद जो समझा।
वह अधम तो जाने ही क्या
जो नित पाप कर्म में उलझा।

दुष्कर्मों का सत्कर्मों से जो नाता
वही है पाप-पुण्य के बीच की दूरी।
अरे संभल जा पापी अब तो
बुरे कर्म तेरी नहीं मजबूरी।

पाप-पुण्य हैं शब्द विपरीत
फिर भी सदा आते हैं साथ।
एक बुरा तो दूजा है अच्छा
अच्छे संग मिलाओ हाथ।

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

125 Views
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से...
You may also like: