31.5k Members 51.9k Posts

पापा

तुम्हें ही ढूँढती रहती तुम्हारी लाडली पापा
तुम्हारे बिन हुई सूनी बहुत ये ज़िन्दगी पापा

अँधेरी रात हो कितनी उजाले ही भरे तुमने
बिछाकर नेह की अपनी हमेशा चाँदनी पापा

सिखाया था जहाँ चलना पकड़कर उँगलियाँ मेरी
गुजरती हूँ वहाँ से जब रुलाती वो गली पापा

मिले चाहें यहाँ कितने मुझे अनमोल से रिश्ते
मिला लेकिन जमाने में नहीं तुम सा कोई पापा

ख़ुशी चाहें मिले मुझको या गम की बात हो कोई
मुझे महसूस होती है तुम्हारी ही कमी पापा

मनाना ‘अर्चना’ उनका बहुत अब याद आता है
लड़ाते लाड़ थे कहकर कहाँ मेरी परी पापा

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 14 Comments · 687 Views
Dr Archana Gupta
Dr Archana Gupta
मुरादाबाद
941 Posts · 96.7k Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी प्यारी लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी,...
You may also like: