.
Skip to content

पापा! मेरे लिए महान तुम्हीं हो!

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

कविता

April 4, 2017

पुण्यतिथि पर पापा की याद में
***********************

थाम के मेरी नन्ही ऊँगली
पहला सफ़र आसान बनाया
हर एक मुश्किल कदम में पापा
तुमको अपने संग ही पाया

कितना प्यारा था वो बचपन
जब गोदी में खेला करती
पाकर तुम्हारे स्नेह का साया
बड़े-बड़े मैं सपने बुनती

लेकर तुम्हारे व्यक्तित्व से प्रेरणा
देखो आज कुछ बन पाई
हौसलें व विश्वास के दम पर
एक राह सच्ची मैं चुन पाई

बदला मौसम, छूटा बचपन
देखो अब बच्ची नहीं रही
बन गई हूँ मैं एक नारी
फिर भी हूँ तुम्हारी छुटकी वहीं

सच कहती हूँ पापा मानो
मेरे तो भगवान तुम्हीं हो
सृष्टि के त्रिदेव से बढकर
मेरे लिए महान तुम्हीं हो

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’

Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....
Recommended Posts
मेरे पापा
???? मैं आपका ही रंग रूप हूँ , मैं हूँ आपका आकार पापा। मेरा जीवन है, आप का ही आशीर्वाद पापा। मैं जो बच्चों को... Read more
****मैं और मेरे पापा****
माँ का प्यार कैसा होता है । पापा के सीने से लगकर ही यह जाना है । माँ की सूरत तो नहीं देखी है ।... Read more
मॉ की कोख में मुझे न मारो
*मॉ की कोख में मुझे न मारो* ✍?अरविंद राजपूत पापा मेरे प्यारे पापा, मुझे अपना लो पापा जी । मां की कोख में मुझे न... Read more
संस्मरण
संस्मरण-पहला प्यार। लोग कहते है- "पहला प्यार भुलाये,नही भूलता" अनायास ये सवाल जहम में रोधने लगा,हर बार की तरह गर्मी की दुपहरी थी और मै... Read more