.
Skip to content

पापा जी का गुस्सा

Ashish Tiwari

Ashish Tiwari

कविता

July 8, 2016

कक्षा १० वी की बात थी ,
उसदिन अमावास की रात थी !!

मै लिख रहा था कविता ,
अचानक देख रो पड़े पिता !!

बोले बेटा पढ़ाई कर ले ,
हम सब का दुःख हर ले !!

कविता काम नही आयेगी ,
तेरी बीबी क्या खायेगी ?

लोग कहेगे तुझे निकम्मा ,
सुनकर रोयेगी तेरी अम्मा !!

भाई भी तेरे जैसे होगे ,
पॉकेट में न पैसे होगे !!

गली मुहल्ले में रोकेगे ,
बिना बात के वो टोकेगे !!

घर का तू बड़ा बेटा है ,
मीठे में जैसा पेठा है !!

अभी तो है सम्मान हमारा ,
कभी नहीं दुश्मन से हारा !!

खूब पढ़ो और नाम कमाओ ,
मात पिता को चरोधाम कराओ !!

जग में तेरा नाम हो रोशन ,
सुनकर बाते हुआ इमोशन !!

अपने मन में किया प्रतीज्ञा ,
मै पूर्ण करू पापा की आज्ञा !!

Author
Ashish Tiwari
love is life
Recommended Posts
तो वो कविता है
शब्द कम हो और सिख बडी दे जाये,तो वो कविता है मोहब्बत के मारे शायर बना फिरता है वो शायरी प्रकृति से मिल जाए,तो वो... Read more
कविता क्या होती है...?
कविता क्या होती है.....? इसे नहीँ पता,उसे नहीँ पता मुझे नहीँ पता...........! कहते हैँ कवि गण- कविता होती है मर्मशील विचारोँ का शब्द पुँज, कविता... Read more
माँ तेरी याद के है बहुत मौके
जब गूंजते ये शब्द कानो में किसी माँ के, बेटा अभी खाया ही क्या है ले एक और खा ले चपाती तब माँ तेरी याद... Read more
**कविता**
---------क्या आप मेरी बात से सहमत हैं ? **कविता** ** * * एक अनपढ़ भी कविता रच सकता है क्योंकि कविता आत्मा की आवाज है... Read more