***" पापा की याद में "***

🌠🌟🕉🌟🌠
।। श्री परमात्मने नमः।।
*** पापा की याद में ***
यूँ तो दुनिया के सारे गम हँसकर झेल लेते हैं।दर्द कैसे बयां करूं आपके चले जाने का ,
हौसला जो बंधे रहता था मेरे ख्वाबों को सजाने का ,
जब याद आती है तो उन यादों के सहारे ही भीगीं पलकों से रो लेते हैं।
मुसीबतों का वो गुजरता हुआ दौर में ,
लाख कोशिशों के बाद अफ़सोस की दीवारें ,
वो मजबूरियां मीलों दूरी तक सफर तय करते हुए भी ,
कीमती समय को चुराकर आंखों में आँसू दे जाते हैं ।
बचपन में जब खुश होकर आपके पास बैठे हुए
हंसते ,खेलते हुए बतियाते उन हसीन लम्हों को फिर से समेट कर मन को बहला लेते हैं।
हर शख्स का वजूद होती है बेटियाँ सोनपरी ,
चट्टानों सी हिम्मत बंधाकर तूफानों से घिरकर
बच्चों के अरमान पूरा करके एक नई पहचान बना लेते हैं।
वो खाली सी कुर्सियां ,घरों की दीवारों को देखकर ,
हर दुःख दर्द छुपाते हुए माँ की भीगीं सी पलकों में मीठा दर्द देख लेते हैं।
बचपन बीता उस घर आँगन में खेलते ,कूदते
भाई ,बहनों के संग उन हसीन लम्हों को समेटकर तमन्नाओं के साथ जी लेते हैं।
दिल में यादों को संजोये हुए सोनपरी ,
पापा की तस्वीरों में खोजते ,फिरते गुजरते यादों को निहारते बहानों में जी लेते हैं।
लौटकर एक बार फिर से आ जाते हकीकत में,
अपनों की खामोशियाँ तोड़कर गले लगाते देख लेते हैं।
फर्ज निभाते कर्तव्य पथ पर हौसलों को लिये,
कदम उठाने हरेक नजरियों को बदलते हुए
कल की तैयारी में बांध लेते हैं।
बच्चों की खातिर उम्मीदों पर खरा उतरने के लिये अरमानों ,आदर्शों को पूरा कर लेते हैं।
आँखों में आंसू बहते हुए बहुत रोका था मैंने, लेकिन आपकी कमी वो ख़ालीपन एहसास लिये हौसला बंधा जीने का बहाना ढूंढ लेते हैं।
पापा आपके चले जाने के बाद ही पता चला कि दूसरों को खुशियाँ देना और जिम्मेदारियों का बोझ उठाना कितना भारी है लेकिन यह सीख आपसे ही लेते हैं ।
आपने हर ख़ुशियों से नवाजा दुःख तकलीफों से दूर रक्खा मुझको ,
कभी उदास हो जाऊं तो सारे जहां की खुशियां कुर्बान कर पलकों पे बैठा लेते हैं।
मैं उनकी बेटी नाजो नखरे से पली बढ़ी इस बात का गुमान लिए अभिमान लिये,
उनके स्वाभिमान के खातिर ख्वाबों को सजाने फिर से यही अरमान रखते हैं ।
पापा आपकी बेटी ही नही वरन पूरा गांव सारा परिवार साथ में रहते हुए ,
यही एहसास लिये हम सभी मिलजुलकर पहली पुण्यतिथि पर श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं।
🙏🙏🕉 शांति 🕉🙏🙏
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
⭐🌟🌠 वंदेमातरम जय हिंद 🌠🌟⭐
*** आपकी प्यारी सी बेटी ***

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 15

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share