.
Skip to content

“पाने की तलब है”

Surya Karan

Surya Karan

गज़ल/गीतिका

July 13, 2017

पाने की तलब है, न मुकद्दर में यकीं है
मेरे कदम वहीं है ,जहाँ मेरी जमीं है।

आँखों मे तिरे आज भी हया की नमीं है
लगता है मुझे मेरी ही वफ़ा मे कमी है ।

तु पहले तो हसीं थी, मग़र अबके नशी है
जुल्फों की ओंट में तेरी चंदा सी हँसी है।

साहिल आँखों में भोली सी सूरत बसी है
बस इसलिए ही;हमें तो ये दुनिया जंची है।

S.K. soni अग्निवृष्टि?

Author
Surya Karan
Govt.Teacher, M.A. B.ed (eng.) Writer.
Recommended Posts
तुझे पाने को सनम दिल मेरा मचलता है
Ashish Tiwari गीत Jul 8, 2016
तुझे पाने को सनम दिल मेरा मचलता है ! तुम्हे देखे कोई तो ये बदन भी जलता है !! नाज़ुक होठ तेरे........चाँद की चकोरी है... Read more
** मेरी बेटी **
Neelam Ji कविता Jul 19, 2017
मिश्री की डली है मेरी बेटी , नाजों से पली है मेरी बेटी । हर गम से दूर है मेरी बेटी , पापा की परी... Read more
गजल
मेरी हर शाम खुशनुमा सी होगी जब तेरी पनाहों में ज़िंदगी होगी मेरी पलकों में है उनकी सूरत उनके लिये तो ये बेबकूफी होगी जो... Read more
मेरी कली
उसकी यादों की खुशबू से, महकती है बगिया मेरी, उसका ही ज़िक़्र रहता है, अब हर गुफ़्तगू में मेरी, उसके बिन गुज़र जातीं हैं, मेरी... Read more