31.5k Members 51.9k Posts

पानी को पानी की प्यास है

Mar 30, 2020 07:18 PM

प्रेम का भी अजब सा ये एहसास है।
नदियों को क्यो समंदर की ही आस है।
होती दोनों की तासीर इक ही मगर।
देखिए पानी को पानी की प्यास है। ।

रोज सागर से मिलने को व्याकुल रहे।
गुनगुनाती नदी देखो पल पल कहे।
खारा है तू भले ही जहां के लिए ।
पर हमारे लिए तू बहुत खास है ।।

रोक पाएं न चट्टानें बह आऊँगी।
तेरी लहरों में आकर समा जाऊँगी।
बहते ही हम रहें यूँ प्रबल वेग से
हो मिलन का मधुर आज अहसास है

प्यास सबकी बुझाई सदा हित किया ।
मुझको लोगों ने अक्सर ही दूषित किया।
पाप धोते हुये थक चुकी हूँ मैं अब।
दे जगह बाँहो मे तुझसे अरदास है।।

श्रीमती ज्योति श्रीवास्तव

2 Likes · 2 Comments · 17 Views
Jyoti shrivastava
Jyoti shrivastava
साईंखेड़ा जिला नरसिंहपुर मध्य प्रदेश
97 Posts · 1.1k Views
प्राथमिक शिक्षिका शासकीय नवीन माध्यमिक शाला खरैटी, साईंखेड़ा, जिला नरसिंहपुर 487661
You may also like: