पाती पिय की

212 212 212 212
प्रेम पाती पिया की मैं ‘ पढ़ने लगी।
मन की’ कोयल खुशी से चहकने लगी।
प्रीति लिखने लगी नैन की लेखनी।
रात – रानी ह्रदय की महकने के लगी।।
****************************

Like Comment 0
Views 62

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share