आना फिर से वोट मांगने

आना फिर से वोट मांगने
◆◆◆◆◆◆◆◆◆
झूठी बातों में उलझाकर
जनता को तड़पाने वालों
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों

अच्छे दिन का राग सुनाकर
फेंक रहे थे इतना ज्यादा
वोट सभी लोगों का पाकर
कहाँ गया वह तेरा वादा
पेट भरा तुम सबका लेकिन
हम सबको तरसाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों

अब भी जुमले फेंक रहे हो
रोजगार की वाट लगाकर
अच्छे-खासे पढ़े-लिखे अब
बेच रहे हैं चाट बनाकर
रोजगार का वादा करके
ठेलों तक पहुँचाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों

चोर-लुटेरे भाग गए सब
चौकीदारी खूब निभाई
जनता की जेबों को देखो
काट रहे हैं तेरे चाई
बात बात में शोर मचाकर
सबकी नींद चुराने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों

तुमने ऐसी नीति बनाई
आसमान छूती महँगाई
उनको भूखे मार रहे हो
जिनको तुम कहते थे भाई
बड़े बड़े सपने दिखलाकर
बार बार भरमाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों

वक्त बुरा आया है लेकिन
तुम तो चाँदी काट रहे हो
जाति-धर्म की आग लगाकर
इंसानों को बाट रहे हो
प्यार भरे प्यारे भारत में
कटुता तुम फैलाने वालों-
आना फिर से वोट मांगने
पाँच साल सिसकाने वालों

रचना- आकाश महेशपुरी

1 Like · 239 Views
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा माता- श्री मती...
You may also like: