Skip to content

पहले प्‍यार की खातिर

bharat gehlot

bharat gehlot

कुण्डलिया

April 18, 2017

पहले प्‍यार की खातिर हॅसी उल्‍लास की खातिर ,
में तुझको देखता ऐसे मधुर मधुमास की खातिर,
बहारो फुल की खातिर हद्रय की पीर की खातिर,
मन के द्रारो की खातिर मन के विकारो की खातिर,
मन मेरा डोलता है तेरे ख्‍यालो की खातिर,
मन मेरा विचलन हो जाता तुम्‍हारी एक झलक की खा‍तिर ,
मन मेरा यु तडपता है जैसे मछली तडपे नीर की खातिर ,
भरत गेहलोत
जालाेर राजस्‍थान

Share this:
Author
bharat gehlot
Recommended for you