पहले ऐसी नफ़रतें कभी न थी

पहले ऐसी नफ़रतें कभी न थी
इंसानो की ऐसी जरूरते कभी न थी
इंसान ही इंसान के काम आता था
एक दूजे से शिकायत कभी न थी

मज़हब बनाया हमनें ही था
एक दूजे को उकसाया हमनें ही था
आज हो गए सब क़ातिल
कल खुशी से अपनाया हमनें ही था

भूपेंद्र रावत
17।04।2020

1 Like · 1 View
M.a, B.ed शौकीन- लिखना, पढ़ना हर्फ़ों से खेलने की आदत हो गयी है पन्नो को...
You may also like: