पहली दफा

कुछ तो है ….,
जो नींद मुझसे ख़फा है ।
है इश्क ये , या नादानी दिल की
पर जो भी है , पहली दफा है ।।
“सैयय्द आकिब ज़मील “

Like 1 Comment 0
Views 19

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share