*पहचान*

खुद को जिसने जाना है !
खुदा को उसने जाना है !!

अपना सबको माना है !
फ़िर कोई नही बेगाना है !!

खुद को जिसने जाना है
खुदा को उसने जाना है !!

लबों पर यही तराना है !
सब कुछ आना जाना है !!

दुनियाँ मुसाफ़िरखाना है
सांसों का कर्ज़ चुकाना है!!

खुद को जिसने जाना है !
खुदा को उसने जाना है !!
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Like Comment 0
Views 11

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share