.
Skip to content

पसीने से ख़ुद को तो भिगाया करो

अजय कुमार मिश्र

अजय कुमार मिश्र

गज़ल/गीतिका

April 4, 2017

ग़म की हो या हो ख़ुशी का ही पल
दोस्तों को तुम मत भूल जाया करो/

रिश्तों में कुछ नयापन सा आ जाएगा
संग उनके तो महफ़िल सजाया करो/

मिल जाएँगी ख़ुशियाँ तो बे-इंतहा
रोतों को ही अगर तुम हँसाया करो/

दौड़ते को तो गिराते ही सब हैं यहाँ
गिरते को अब तुम तो उठाया करो/

राह कठिन हो,मिलेगी मंज़िल मगर
पसीने से ख़ुद को तो भिगाया करो/

दायित्वों का गर बोझ बढ़ ही गया
बारिश में तब खुलकर नहाया करो/

लौट बचपन में थोड़ा तुम तो चलो
काग़ज़ की नाँव कभी बहाया करो/

जो तुम्हारी फ़िकर करते रहते सदा
उनको तो तुम मत भूल जाया करो/

पा जाओ ही जब उन्नति का शिखर
मग़रूर कभी भी मत हो जाया करो/

बुज़ुर्गों की नेकी से ही फलते हैं हम
उनसे तो अदब से पेश आया करो/

Author
अजय कुमार मिश्र
रचना क्षेत्र में मेरा पदार्पण अपनी सृजनात्मक क्षमताओं को निखारने के उद्देश्य से हुआ। लेकिन एक लेखक का जुड़ाव जब तक पाठकों से नहीं होगा , तब तक रचना अर्थवान नहीं हो सकती।यहीं से मेरा रचना क्रम स्वयं से संवाद... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
हरबार तुम एक ही नादानी न करो! हर किसी से जिक्र तुम कहानी न करो! रूठी हुई है मंजिल प्यार की मगर, हरबार तुम खुद... Read more
बात- बात पर आँखें न भिगाया करो..................
बात- बात पर आँखें न भिगाया करो जैसे चलता है काम चलाया करो हमसे ना पूछो तुम हाल-ए-दिल अगर हाल -चाल अपने मगर सुनाया करो... Read more
कविता: ?? मुस्क़राया करो??
मायूसी न तुम कभी,गले लगाया करो। ज़िन्दगी में हरपल,बस मुस्क़राया करो।। हर समस्या का हल,आज नहीं तो कल। कीमती मोती आँसू,व्यर्थ न बहाया करो।। तम... Read more
गुद्गुद्दी
अपनी गृहस्थी को कुछ इस तरह बचा लिया करो कभी आँखें दिखा दी कभी सर झुका लिया करो आपसी नाराज़गी को लम्बा चलने ही न... Read more