.
Skip to content

पवित्र साध्य-प्रेम

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

अन्य

November 11, 2017

” पवित्र साध्य- प्रेम ”
—————————-

रहिमन धागा प्रेम का ,मत तोड़ो चटकाय |
टूटे से फिर ना जुड़े ,जुड़े गाँठ परि जाय ||
—————————————————
उक्त दोहे के माध्यम से रहीम जी ने प्रेम की पराकाष्ठा, महत्व और इसके विशाल स्वरूप को बताने का प्रयास किया है | प्रेम क्या है ? प्रेम का वास्तविक स्वरूप क्या है ? प्रेम की महत्ता क्या है ? प्रेम की आत्मिक प्रबलता और सहजता कितनी है ? इन सभी प्रश्नों को समाहित करता हुआ ये दोहा न केवल प्रेम की गूढ़तम रहस्यात्मक अभिव्यक्ति को उजागर करता है , बल्कि प्रेम की गहन जड़ों और उसकी दार्शनिक और भावनात्मक अभिव्यक्ति को भी बताता है | प्रेम , वह भावनात्मक अभिव्यक्ति है जो कि सत्व गुण से परिपूर्ण है तथा त्याग ,समर्पण, विश्वास , निष्ठा जैसे मानवीय गुणों को समाहित किए हुए है | इन्हीं गुणों के कारण प्रेम एक सशक्त मानवीय अनुभूति है ,जो हमेशा निर्मल और सुखद एहसास का अंकुर प्रस्फुटित करता है | इसलिए जरूरी है कि इस अंकुर का पोषण हम पूरी निष्ठा ,समर्पण और विश्वास के साथ करें , ताकि प्रेम जैसे पवित्र साध्य को हम प्राप्त कर सके और सहेज सकें | क्यों कि प्रेम, एहसास के नाजुक धागों से बंधा हुआ होता है ,जिन्हें त्याग , समर्पण , निष्ठा और विश्वास जैसे धागों से मजबूती मिलती है | यदि इन भावों की कमी या इनके विपरीत यथा – अविश्वास , स्वार्थ ,धोखा जैसे भावों का उद्भव होता है ,तो यह प्रेम का धागा टूट जाता है | जिस प्रकार कोई धागा टूट जाने पर उसे पुन: जोड़ने पड़ गाँठ पड़ जाती है , उसी तरह प्रेम भी एक बार टूट जाने या खत्म हो जाने पर भावों में आशंका और मलीनता आ जाती है , जो कि प्रेम जैसे पवित्र साध्य के लिए घातक है ,क्यों कि वहाँ विश्वास, समर्पण, त्याग और निष्ठा धूमिल हो जाती है | इसी धूमिलता के कारण दिल के आसमान में कोहरा छा जाता है ,जिसके पार देखना असंभव हो जाता है | अत: यह जरूरी है कि प्रेम को उसके यथार्थ और उज्ज्वल स्वरूप में बनाए रखने के लिए पवित्र साध्यों को अपनाना एक अनिवार्य और महत्वपूर्ण पक्ष है |
—————————————————–
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
पवित्र साध्य - प्रेम
" पवित्र साध्य- प्रेम " ---------------------------- रहिमन धागा प्रेम का ,मत तोड़ो चटकाय | टूटे से फिर ना जुड़े ,जुड़े गाँठ परि जाय || ---------------------------------------------------... Read more
"मैं प्रेम हूँ" प्रेम से भरा है मेरा हृदय, प्रेम करता हूँ, प्रेम लिखता हूँ, प्रेम ही जीता हूँ, मुझसे नफरत करो, मेरा क्या, मुझे... Read more
प्रेम
दर्द निकाल दो हृदय तल से , क्या रखा है दर्द पीने में ? अंतर्मन आलोकित कर लो , प्रेम दीप जलाकर सीने में, प्रेम... Read more
प्रेम एक अनुभव
कबीरा मन निर्मल भया जैसे गंगा नीर पीछे-पीछे हरि फ़िरे कहत कबीर कबीर|| यदि मनुष्य का मन निर्मल हो जता है तो उसमे पवित्र प्रेम... Read more